“Two Words”

our talk

This book is not just an advertisement, but it is the character of Asha, who guides the forgotten youngsters. By reading this, you can communicate true happiness in a hopeless life by solving any physical and sex-related problems of your and your friends. So keep this book safe, at some point it will fill true happiness in your hopeless life.

Zafar Shafakhana is an oldest Sex clinic which provides sexual problem Ayurvedic treatment and we serve the people from past many years. Herbal treats the mind, the body and the soul and cleans them internally.

Puberty (Youth)

Youth

The word youth is as simple as it is, and the more important it is. This is that delicate part of human life, which is very difficult to understand. In this time, the young man who keeps his mind's desires under control, stays in moderation and spends all his time on good things, his body will find a different attractive existence.

Looking beautiful, mentally skilled and makes a different identity in hard work, but often in this age, most young men sit down destroying their sexual powers due to bad company.The result of this is that after marriage, when all the happiness and satisfaction is far away from them and comes to pass then only despair, such despair which not only socially sucks the human being, but also the happiness of the innocent life Also sets fire to it; Those who took vows to keep each other happy by taking seven rounds.

This book has been written to remove those wandering young men from darkness, so that they can read it and leave their wrong habits and wrong thoughts to make their future bright.

Semen: the test of life

Youth

We want to tell you that just like blood is very much needed in our body, similarly semen is also required. Semen is an invaluable gem, whose value cannot be judged by wealth. After taking food, juice is made, blood is made from juice, flesh is made from blood, fat is made from flesh, bone is made from fat, bone is made from bone, bone is made from bone and semen is made from marrow. After all these actions, on a healthy face, like the rays of the sun, it rains and noor glows.

If we destroy this semen, then many diseases in our body such as constipation, metallic fall, backache, thinning of semen, restlessness, weakening of digestive power and darkening of eyes before getting up, etc. Sleeplessness. It is common to have ejaculated and not ejaculated body and ejaculation only by the desire of sex. Only if you protect semen, semen will protect you.

हस्तमैथुन (MASTURBATION)

Youth

The removal of semen by hand is called masturbation, the main reason for this is Kusangati. The invaluable gemstone semen is destroyed by falling into bad company, listening to obscene things and masturbating due to provocative thoughts in solitude, the result of which is extremely painful in the end. Those who do this do not even care that a moment's pleasure will make them devoid of the power, which is very important for the physical satisfaction of the woman after marriage.

The act of masturbation creates a major obstacle in the complete development of the private part. Due to this, the power of self gets depleted day by day. Dreaming is caused by the weakness of the private part and semen begins to flow with excreta. This worsens digestion. It is common to be brainwashed through conversation, angry at talk, quick breathlessness, feeling bad about what others have said, fear in the mind, staying anxious and so on.

Night Fall(Night Discharge)

Youth

When our semen gets weak due to excessive masturbation and the private part becomes relaxed, then the mere ejection of the semen by sleeping at night is called dreaming. In this process, man can control the hand, but he is not able to control his mind. Initially, sleep is opened as soon as dreaming occurs and the semen is released, but when the disease is aggravated, it is not known that the dreaming occurs, only on waking it is known that the dreaming has taken place. Dreaming occurs in the sleep at night, but sometimes in the sleep of the day.

Semen starts coming out as soon as vulgar thoughts come in the mind. This should not happen, so do not let sensual thoughts come to your mind, avoid pornographic pictures and pornography, do not drink hot milk at night. Walking on green grass barefoot in the morning also benefits in this disease.

Dermatitis

Youth

The discharge of semen during eating or urination is called metal disease, it is a urinary disease, it is related to our whole body. At the beginning of this disease, your semen will feel coming out in a thin saliva, but gradually as the disease progresses, the semen starts to dilute and pass through the urine.

In this way, the release of semen makes the body hollow, which has an effect on our brain memory. It is believed that impotence comes to life, but we have experienced malefics whose intake makes the body full of energy.

PREMATURE EJACULATION

Youth

Premature ejaculation of semen during sexual intercourse is called premature ejaculation. If a person whose semen comes out without complete satisfaction of the woman, then he should consider himself as a patient of premature ejaculation. There are many symptoms.

For example, the ejaculation starts at the time of coitus, ejaculation as soon as it goes to the woman, ejaculation of the semen as soon as it touches the woman in the crowd, all these are symptoms of premature ejaculation, which eventually become impotence. . In this disease, the patient should not take opium-containing drugs, because the patient becomes impotent forever due to the sexual intercourse.

Impotence (IMPOTEANCY)

Impotence is not due to lack of power, ejaculation without the satisfaction of the woman at the time of the ceremony, impotence is the impotence to produce a woman or a child in a young age. Excessive masturbation, excessive dreaming, ejaculation just because of thinking and impotence are the main symptoms caused by watching excessive porn movies. The impotent person does not feel capable of doing sex even when a woman is aroused.

Youth

That is, there is no excitement in the private part and the baijan is dropped like a piece of meat. Even if a little excitement comes in the private part due to the male's best efforts, ejaculation happens soon during sexual intercourse. Such a man neither gets emotional love of a woman nor physical love. Such patients can enjoy the marital life fully by gaining stormy strength in the lifeless private part of our prescriptions.

Just think - a woman who gives up everything and settles in the husband's house. Eats to support her in happiness and sorrow, surrenders everything to her husband. But on the contrary, if she comes to know about her husband's condition, then what would be the condition of that poor person in such a situation, this should not happen to you, so you can make your home like heaven by making your full treatment. .

suggestion

There are many men, who feel embarrassed and waste their lives, keep dissolving inside, preferring to be alone more and more, are irritable with everything, for them we will say that life is precious That is, it has no value, so do not make this life hell due to your shame and shyness.

We have given the right guidance to many wandering young men who hesitated to get treated hesitantly. In ignorance, mistake is made by everyone, but a sensible young man is the one who can save his life from hell in time, so that married life is not ruined by shame and shyness.

Heat fire

This disease is a serious disease. Many times this disease occurs very quickly by unknowingly making connections with prostitutes, urinating in very dirty places, changing clothes and wearing clothes with such diseases. If it is not treated in time, it does not leave the chase until the books. Its initial symptoms are not so severe.

Gradually, there are small grains on the private part, the betel nut starts to turn red, the small grains turn into a wound, due to which the private part feels extremely pain all the time. If the germs of this disease attack the brain, the patient may also become unstable.

Sometimes death occurs in this stage. Therefore, such a patient should never be careless and should be treated immediately if he feels symptoms.

Gonorrhea

Youth

This disease is also caused by intercourse with prostitutes. A few days after mating in this disease, the urine starts burning, which is unbearable. The patient starts to panic just by thinking of urinating, and on seeing it, purulent discharge starts happening in Peshab.

Sometimes blood also comes with the pus. This disease is contagious, in this stage one should not have sex with the wife, otherwise this disease can also happen to the wife. Therefore, first try to avoid going to prostitutes and second try to treat it properly and immediately as soon as symptoms arise.

Sorrow of children; become happy

Just as we wish while planting a plant that when grown, it will take the form of a huge tree and provide cool shade, similarly after marriage, the woman and the man have a complete desire, that in their listened courtyard, the child's throb . Sometimes some married couples get into the affair of hypocritical sadhus and waste both their time and money and blame the woman.

Youth

In such a situation, many men get married till the second marriage. Those who do not have children here should first find out whether there is a deficiency in a woman or a man. Only after a thorough examination of the husband and wife, it is known that due to lack, children are not able to get children.

In such a situation, it should be treated with scientific methods very carefully, so that mutual discord can be ended, and in the courtyard that is soaked, the cry of children can echo First of all, get treatment at our clinic only, but if due to lack of time due to any reason can not come away due to lack of time, write your condition in the letter and get full treatment from our experienced and Ayurvedic prescriptions.

Necessary counseling for young men

  1. It is very important to follow brahmacharya in order to have a healthy body, so do not weaken the roots of the tree of the body (that is, do not destroy semen) by falling into the illusion
  2. Do not consume fried and spicy things in the market. Do not consume alcohol and tobacco excessively.
  3. Must urinate before bedtime and do not drink hot milk at bedtime.
  4. Always have more full stomachs; Do not have sex when you are immediately after eating.
  5. Do not be worried about having dreams twice a month. This is a natural law.
  6. Always have more full stomachs; Do not have sex when you are immediately after eating.
  7. If unmarried, avoid pornographic books, movies and obscene things, because semen loss occurs not only with the release of semen, but also with greater brain stimulation.
  8. Must walk every morning in the morning and after dinner, walk for a while.
  9. If possible, massage the body once a week, it will keep your body fit and agile.

Sax-love also quarrels

A very happy bliss is attained in married life. In this, two beings (men and women)

दो शब्द

our talk

यह पुस्तक सिर्फ एक विज्ञापन मात्र नही है, बल्कि आशा की वो किरन है, जो भूले भटके नवयुवकों का सही मार्गदर्शन करती है। इसे पढ़कर आप अपनी व अपने मित्रांे की किसी भी शारीरिक व सैक्स-सम्बन्धी समस्याओं का समाधान कर, मायूसी भरे जीवन में सच्ची खुश्यिों का संचार कर सकते हैं। अतः इस पुस्तक को संभाल कर रखें, किसी समय यह आपके निराशा भरे जीवन में सच्ची खुशियाॅं भर देगी।

यौवन

Youth

यौवन शब्द जितना सरल है, उतना ही इसका महत्व अधिक है। यह मनुष्य के जीवन का वो नाजुक भाग है, जिसे समझ पाना अत्यन्त कठिन है। इस समय में जो नवयुवक अपने मन की इच्छाओं को अपने वश मे रखता है, संयम में रहता है व अपना सारा समय अच्छी बातों पर लगाता है, उसका शरीर एक अलग ही आकर्षक अस्तित्व पातोै। देखने मे सुन्दर, दिमागी तौर पर कुशल व मेहनत करने में अपनी अलग ही पहचान बनाता है, लेकिन अज्ञानतावश प्रायः इस उम्र में अधिकाश्ंा नवयुवक बुरी संगत के कारण उपनी यौन शक्तियों को नष्ट कर बैठते हैं। जिसका परिणाम यह होता है, कि विवाह के पश्चात् जब वह सम्पूर्ण आनंद और संतुष्टि उनसे कोसों दूर होती है और पास होती है तो सिर्फ मायूसी, ऐसी मायूसी जो न कि सिर्फ सामाजिक रूप से मनुष्य को बेकार करती है, बल्कि दा मासूम ज़िंदगियों की खुशियों में भी आग लगा देती है ; जिन्होंने सात फेरे लेकर एक दूसरे को खुश रखने की कसमें खाई होती हैं द्ध। यह पुस्तक उन्हीं भटके हुए नवयुवकों को अंधकार से निकालने के लिए लिखी गयी है, ताकि वे इसे पढ़कर अपनी गलत आदतों व ग़लत विचारों को छोड़कर अपने भविष्य को उज्जवल बना सकें।

वीर्य: जीवन की कसौटी

हम आपको बताना चाहते हैं कि जिस प्रकार हमारे शरीर में रक्त की अति आवश्यकता है, उसी प्रकार वीर्य की भी अति आवश्यकता होती है। वीर्य एक ऐसा अमूल्य रत्न है, जिसकी क़ीमत धन दौलत से नहीं आंकी जा सकती। भोजन करने के पश्चात् पहले रस बनता है, रस Youth से रक्त बनता है, रक्त से मांस बनता है,मांस से चर्बी बनती है, चर्बी से अस्थि ;हडड्ीद्ध , हडड्ी से मज्जा तथा मज्जा से वीर्य बनता है। इन सब क्रियाओं के पश्चात एक स्वस्थ चेहरे पर सूरज की किरणों के समान औज बरसता है व नूर झलकता है। यदि हम इस वीर्य को नष्ट करते हैं, तो हमारे शरीर में अनेकांे रोग जैसे- क़ब्ज़, धात् गिरना, कमर दर्द, वीर्य का पतलापन, बैचेनी, पाचन शक्ति का कमज़ोर होना व उठते बैठते आंखों के आगे अंधेरा आने लगना, आदि रोग हो जाते हैं नींद का न आना। खाया-पिया शरीर को न लगना व सैक्स की इच्छा मात्र से ही स्खलन होना आम बात हो जाती है। आप वीर्य की रक्षा करें तभी वीर्य आपकी रक्षा करेगा।

"

“ Our profession is the only one which works unceasingly to annihilate itself. The best Hakim(doctor) is the one you run to and can't find.”

Hakim Rizwan
Founder of Zafar Shafakhana

हस्तमैथुन (Masturbation)

Youth

हाथ के द्वारा ही वीर्य को निकालना ही हस्तमैथुन कहलाता है, जिसका सबसे बड़ा कारण है कुसंगति। बुरी संगत में पड़कर, अश्लील बातें सुनकर और एकांत में उत्तेजनात्मक विचारों के कारण हस्तमैथुन करने पर अमूल्य रत्न वीर्य नष्ट होता है, जिसका अंत में परिणाम बेहद दुखदायी होता है। ऐसा करने वालों को इतना भी ध्यान नही रहता कि पलभर का आनंद उन्हें उस शक्ति से विहीन कर देगा, जो विवाह के पश्चात् स्त्री की शारीरिक संतुष्टि के लिये अत्यंत आवश्यक है। हस्तमैथुन कि क्रिया प्राईवेट पार्ट के पूर्ण विकास में अहम बाधा उत्पन्न करती है। इससे आत्म शक्ति दिन प्रतिदिन क्षीण होती चली जाती है। प्राईवेट पार्ट की कमज़ोरी से ही स्वप्नदोष होता है व मलमूत्र के साथ वीर्य जाने लगता है। इससे पाचन क्रिया बिगड़ जाती है। बातचीत से ही दिमाग़ चकराना, बात-बात पर गुस्सा आना, जल्दी से सांस फूलना, दूसरे की कही गयी अच्छी बात भी बुरी लगना, दिमाग़ में डर, वहम् व चिंता रहना आदि आम बातें हो जाती हंै। अतः नवयुवकों को चाहिए कि इस ग़लत आदत को छोड़कर अपने शरीर पर ध्यान दें, ताकि वह जीवन में आनी वाली हर कठिनाई का डट कर मुकाबला कर सकें

स्वप्नदोष (Night Discharge)

Youth

जब अधिक हस्तमैथुन से हमारा वीर्य कमज़ोर हो जाता है व प्राईवेट पार्ट शिथिल हो जाता है, तो रात्रि में सोते समय केवल कल्पना मात्र से वीर्य का निकल जाना ही स्वप्नदोष कहलाता है। इस क्रिया में मनुष्य हाथ पर तो काबू पा लेता है, परन्तु अपने मन पर काबू नहीं रख पाता है। प्रारम्भ मे तो स्वप्नदोष होते ही नींद खुल जाती है और वीर्य निकल जाने का पता चल जाता है, लेकिन जब रोग बढ़ जाता है, तो स्वप्नदोेष होने का पता ही नही चलता, केवल जागने पर ही पता चलता है कि स्वप्नदोष हुआ है। स्वप्नदोष ेंप्रायः रात को नींद में ही होता है, लेकिन कई बार दिन की नींद में भी हो जाता है। थोड़ा सा मन में अश्लील विचार आते ही वीर्य निकलने लगता है। ऐसा न हो इसलिये अपने मन में कामुक विचार न आने दें, अश्लील चित्रों व अश्लील साहित्य से बचें, रात को गर्म दूध न पियें। प्रातः नंगे पांव हरी घास पर चलने से भी इस रोग में लाभ पहुॅंचता है।

प्रमेह -धातु रोग-

Youth

पखाना या पेशाब के समय वीर्य निकलने को धातु रोग कहते हैं यह मूत्र रोग है, इसका संबध हमारे पूरे शरीर से होता है। इस रोग की शुरूआत मे आपका वीर्य एक पतली लार मे निकलता हुआ महसूस होगा, लेकिन धीरे-धीरे जैसे-जैसे यह रोग बढ़ता है, वैसे-वैसे वीर्य पतला होकर पेशाब के रास्ते निकलने लगता है। इस प्रकार वीर्य का निकलना शरीर को खोखला बना देता है जिसका असर हमारी दिमाग़ी याद्दाश्त पर पड़ता है। यहंातक कि नपुंसकता की नौबत तक आ जाती है, लेकिन हमारे पास ऐसे अनुभवी नरुस्खे हैं जिनके सेवन से शरीर निरोग होकर शक्ति सम्पन्न बनता है।

शीघ्रपतन (Premature Ejaculation)

Youth

सम्भोग के समय वीर्य का शीघ्र स्खलित होना ही शीघ्रपतन कहलाता है। जिस व्यक्ति का वीर्य स्त्री की पूर्ण संतुष्टि के बिना ही निकल जाए, तो उसे अपने आप को शीघ्रपतन का रोगी समझना चाहिए। इसके कई लक्षण हैं। जैसे - सहसवास शुरू करते ही वीर्य का निकल जाना, स्त्री के पास जाते ही वीर्य का निकल जाना, भीड-भाड़ में स्त्री से छूते ही वीर्य का निकलने लगना, ये सब शीघ्रपतन के लक्षण हैं, जो अंत में नपंुसकता का कारण बन जाते हैं। इस रोग मे रोगी को अफीम युक्त नशीली दवाईयों का सेवन नही करना चाहिए, क्योंकि नशे में किये गये सम्भोग से रोगी सदा के लिये नपुंसक बन जात है।

नपुंसकता (Impoteancy)

स्तम्भन-शक्ति का न होना, रति क्रिया के समय स्त्री की संतुष्टि हुए बिना ही वीर्यपात हो जाना, युवा अवस्था में स्त्री सम्भोग या संतान पैदा करने की आयोग्यता को ही नपुंसकता कहते हैं। अत्यधिक हस्तमैथुन, स्वप्नदोष का ज़्यादा होना, सोचने मात्र से ही वीर्य का निकलना व अत्यधिक अश्लील फिल्में देखने से ही नपुंसकता अहम लक्षण उत्पन्न होते हैं।Youth नपुंसक व्यक्ति, स्त्री द्वारा उत्तेजित करने पर भी स्वयं को सैक्स करने में सक्षम महसूस नही करता है। अर्थात प्राईवेट पार्ट मे उत्तेजना नही आती और वह बैजान मांस के टुकड़े की भांति गिरा रहता है। यदि पुरूष के उपने भरसक प्रयत्न से थोड़ी बहुत उत्तेजना प्राईवेट पार्ट में आती भी है, तो सम्भोग के समय शीघ्र ही वीर्यपात हो जाता है। ऐसे पुरूष को न तो स्त्री का भावनात्मक प्यार मिलता है और न ही शारीरिक प्यार। ऐसे रोगी हमारे नुस्खों से बेजान प्राईवेट पार्ट में तूफानी ताक़त प्राप्त कर वैवाहिक जीवन का पूर्ण आनंद उठा सकते हैं। ज़रा सोचें- एक स्त्री जो अपना सब कुछ छोड़कर पति का घर बसाती है। सुख-दुख में उसका साथ देने की कसमे खाती है, अपना सबकुछ पति को अर्पण कर देती है। लेकिन इसके विपरीत उसे अपने पति की हालत का पता चलता है, तो ऐसे मे उस बेचारी की क्या हालत होती होगी आपके साथ ऐसा न हो, इसलिये आप अपना पूर्ण ईलाज करवा कर अपने घर को स्वर्ग समान बनायें। ।

सुझाव

ऐसे अनेक पुरूष हैं, जो शर्म संकोच में पड कर अपने जीवन को बर्बाद कर लेते हैं, अंदर ही अंदर घुलते रहते हैं ज़्यादा से ज़्यादा अकेले रहना पसंद करते हैं, हर बात से चिड़चिड़ाहट रखते हैं, उनके लिये हम यही कहेंगें कि जीवन अनमोल है अर्थात् इसका कोई मोल नही है, इसलिये इस जीवन को अपने शर्म व संकोच की वजह से नरक न बनायें। हमने ऐसे अनेकों भटके हुए नवयुवकांे का सही मार्गदर्शन किया है, जो संकोचवश ईलाज करवाने से घबराते थे। नादानी में भूल तो सभी से होती है लेकिन समझदार युवक वही होता है, जो समय रहते अपने जीवन को नरक होने से बचा सके, ताकि शर्म और संकोच से विवाहित जीवन बर्बाद न हो

गर्मी आतशक

यह रोग एक गंभीर रोग है। कई बार जाने अनजाने वेश्याओं के साथ संबध बनाने से, बहुत गंदी जगह पर पेशाब करने से, ऐसे रोग युक्त व्यक्तियों से कपड़े बदलकर पहनने से यह रोग बहुत जल्दी होता है। यदि समय रहते इसका ईलाज न हो, तो यह पुश्तों तक पीछा नही छोड़ता। इसके शुरूआती लक्षण इतने गम्भीर नही होते। धीरे-धीरे प्राईवेट पार्ट पर छोटे-छोटे दाने होते हैं, सुपारी लाल होने लगती है, छोटे-छोटे दाने घाव में तबदील हो जाते हैं जिस कारण प्राईवेट पार्ट में हर समय अत्यंत पीड़ा महसूस होती है। यदि इस रोग की कीटाणु मस्तिष्क पर आक्रमण करते हैं, तो रोगी को अधरंग भी होे सकता है। कभी-कभी इस अवस्था मे मृत्यु तक हो जाती है। इसलिये ऐसे रोगी को चाहिये कि वह कभी भी लापरवाही न बरतें व लक्षण महसूस होने पर तुरन्त इ्र्रलाज करायें।

सुजाक

Youth

यह रोग भी वेश्याओं के साथ सम्भोग करने से होता है। इस रोग में सम्भोग करने के कुछ दिन बाद पेशाब में जलन होने लगती है, जो असहनीय होती है। रोगी पेशाब करने के सोचने मात्र से ही घबराने लगता है, और देखत ही देखते पेेशाब में पीप निकलना शु्ररू हो जाती है। कभी-कभी पीप के साथ खून भी आने लगता है। यह रोग संक्रामक होता है, इस अवस्था मे पत्नी के साथ सम्भोग नही करना चाहिए, वरना यह रोग पत्नी को भी हो सकता है। इसलिये पहली कोशिश यही करें कि वेश्याओं के पास जाने से बचें और दूसरी कोशिश यह कि लक्षण उत्पन्न होते ही फौरन इसका उचित और पूरा ईलाज करायें।

औलाद का दुखः ;बन जाये सुखद्ध

Youth

जिस प्रकार हम पौधा लगाते समय यह कामना करते हैं कि बड़ा होने पर यह विशाल वृक्ष का रूप धारण करे व शीतल छााया प्रदान करे, उसी प्रकार विवाह के पश्चात् स्त्री व पुरूष की सम्पूर्ण इच्छा होती है, कि उनके सूने आंगन में बच्चे की किलकारी गूंजे। कभी-कभी कुछ शादीशुदा जोड़े ढोंगी साधुओं के चक्कर में पड़कर अपना समय और पैसा दोनो बर्बाद कर लेते हैं व स्त्री को ही दोषी ठहराते हैं। ऐसे में अनेकों पुरूष संतान पाने के लिये दूसरी शादी तक कर लेते हैं। जिनके यहां संतान नही होती उन्हें सबसे पहले यह पता लगाना चाहिए कि कमी स्त्री मे है या पुरूष मे। पति-पत्नी की पूर्ण जांच के बाद ही पता चल पाता है, कि किस कमी के कारण औलाद नही हो पा रही है। ऐसे में बहुत ही सोच समझ कर वैज्ञानिक तरीकों से ईलाज कराना चाहिए, ताकि आपसी कलह खत्म हो सके, व सूने पड़े आंगन में बच्चों की किलकारी गूंज सके। प्रथम तो हमारे क्लिनिक पर आकर ही ईलाज करायें, लेकिन अगर किसी कारणवश समय के अभाव की वजह से अधिक दूर होने की वजह से नही आ सकते, तो पत्र में अपना हाल लिख कर हमारे अनुभवी व आयुर्वेदिक नुस्खों से पूर्ण ईलाज प्राप्त कर लाभ उठायें।

नवयुवकों को आवश्यक परामर्श

  1. स्वस्थ शरीर के लिये ब्रहाचर्य को पालन करना अति आवश्यक होता है, इसलिये कुसंगति में पड़कर शरीर्र रूपी पेड़ की जड़े कमज़ोर न करें (अर्थात वीर्य नष्ट न करें )
  2. बाज़ार मे तली व चटपटी चीज़े अधिक सेवन न करें। शराब व तम्बाकू का अत्यधिक सेवन न करें।
  3. सोने से पहले पेशाब अवश्य करें व सोते समय गर्म दूध न पियें ।
  4. महीने में एक दो बार स्वप्नदोष होने से चिंतित न हों। यह प्राकृतिक नियम है।
  5. हमेशा अधिक भरे पेट ;खाने के तुरन्त बादद्ध होने पर सम्भोग न करें।
  6. यदि अविवाहित हैं तो अश्लील किताबों, फिल्मों व अश्लील बातों से बचें, क्योंकि वीर्य क्षीणता वीर्य के निकलने से ही नही, बल्कि ज्यादा दिमागी उत्तेजना से भी होती है।
  7. रोज़ाना सुबह सवेरे अवश्य टहलें व रात को भोजन के बाद भी कुछ देर टहलें।
  8. यदि सम्भव हो तो हफते में एक बार शरीर की की मालिश अवश्य करें इससे आपका शरीर चुस्त व फुर्तीला बना रहेगा।

सैक्स-प्यार भी तकरार भी

विवाहित जीवन में एक बहुत ही सुखद आनंद प्राप्त होता है। इसमें दो प्राणी (स्त्री-पुरूष)

Leave A Comment

We Treat

for both Male and Female

Penis Enlargement Treatment
RS 62 per day

Our penis enlargement formulation is the world’s best natural male enhancement Formula... It represents a safe and natural.

Erectile Dysfuntion Treatment
RS 62 per day

Impotence, also known as erectile dysfunction or simply ED, occurs when a man cannot sustain an erection, which is satisfactory for sexual activity.

Breasts Reduction Treatment
RS 50 per day

Reduce Breast Size naturally within 90 days. No more Surgery required Breast reduction is a very commonly requested procedure